Intjar sad shayari in hindi | प्यार में इंतज़ार शायरी

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी आज मैं आपके लिए हिंदी में कुछ बेहतरीन इंतजार शायरी लेकर आया हूं। यहां कई शायरी हैं जो आपको जरूर पसंद आएंगे.

अगर आप किसी को मिस कर रहे हैं तो आप उन्हें ये इंतज़ार शायरी भेज सकते हैं। उन्हें यह पसंद आएगा. हमारे पास हर किसी के लिए शायरी है जैसे intezaar shayari in hindi, intezaar akelapan shayari, emotional intezaar shayari, इंतज़ार शायरी, इंतज़ार शायरी दर्द भरी, 2 line intezaar shayari, intezaar shayari in hindi 2 line, इंस्टाग्राम स्टेटस के लिए लंबित शायरी, इंतज़ार शायरी इमेज और भी बहुत कुछ।

यदि आपको यह इंतज़ार शायरी पसंद है, तो कृपया इसे अपने दोस्तों, परिवार और निश्चित रूप से अपनी प्रेमिका जैसे प्रियजनों के साथ साझा करने में संकोच न करें।

Intjar sad shayari in hindi


इंतज़ार दुनिया के हर परेशानी का हल है।

इंतज़ार में जो मज़ा है, वो दीदार में कहाँ।

हर कोई इतनी मुहाब्बत कर नहीं सकता,
हर कोई हर किसी का इंतज़ार कर नहीं सकता।

तू भी कभी अपने होठों पर मेरा नाम रख के देख,
तू भी तो कभी मेरा इंतज़ार कर के देख।

“दो तरह के आशिक होते है,
एक हासिल करने वाले और दूसरे इंतज़ार करने वाले।”

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी

“मिलने का मज़ा अक्सर इंतज़ार के बाद ही आता है।”

“उसके ना की उम्मीद तो नहीं,
फिर भी उसका इंतज़ार किये जा रहे है।”

“जिसका इंतज़ार शिद्दत से करोगे, वही अक्सर नहीं आते।”

“खूबसूरत का पता नहीं, लेकिन मज़ा बहुत आता है,
प्यार में भी और इंतज़ार में भी।”

“क्या खूब ये सुरूर तेरा है मुझ पर, तुमसे मिल कर फिर तुमसे मिलने का इंतज़ार रहना है।”

Bewafa shayari in hindi

प्यार में इंतज़ार शायरी

“सही समय के इंतज़ार में रहती है, फिर भी जाने क्यों ये किसी और को ढूंढती रहती है।”

“जीवन भर लोग जिस चीज का इंतज़ार करते है, वह चीज ही मौत है।”

“स्वयं लाखों लोगों से मिलें,
पर कभी किसी के इंतज़ार में समय ना गवाएं।”

“ज़िंदगी तो मौत के इंतज़ार में रहती है,
फिर भी जाने क्यों ये किसी और को ढूंढती है।”

“अभी अपने आप से नाखुश हूँ,
तभी तो अपने आने वाले अपने आप के इंतज़ार में हूँ।”

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी

“इंतज़ार किसका रहता है इन आँखों को,
जो रात के अँधेरे और दिन के उजाले
में भी ढूंढ नहीं पाते है।”

“इंतज़ार दरअसल हमें सुकून का था,
लोगों को लगता रहा मैं किसी खास के इंतज़ार में हूँ।”

“आहिस्ता आहिस्ता धड़कन बढ़ने लगती है,
जब इंतज़ार की घड़ी कम होने लगती है।”

“हर इंतज़ार का अहसास बहुत ही खूबसूरत होता है !!”

“कभी कभी अगर इंतज़ार की बेचैनी समझ ना आये,
तो आईने के सामने आकर
अपनी बेचैनी दूर कर लिया कीजिए।”

intezaar akelapan shayari

“कोई आपका इंतज़ार करें और
आप किसी का इंतज़ार करें।
दोनों ही हाल में वक्त थम सा जाता है।”

“संभव ना हो तो साफ मना कर दें,
पर किसी को अपने लिए इंतज़ार ना कराएं।”

“कभी कभी एक दिन का इंतज़ार सालों जैसा लगता है।”

“एक तरफ है खामोशी, एक तरफ इंतज़ार है।
फिर भी ये मोहब्बत अपने आप में ही कमाल है।”

“अगर आपको सबकी नज़रो में अच्छा बनना है,
तो बस अपने मरने तक का इंतज़ार कर लीजिए।”

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी

“इंतज़ार में समय की गति नज़रिये पर निर्भर करती है – अच्छा हो तो तेज और बुरा हो तो धीमे।”

“इंतज़ार करने में अक्सर लोग नफरत ही करते है।”

“सुकून से इंतज़ार आपस में प्यार करने वाले लोग
भी मुश्किल से ही कर पाते है।”

“इंतज़ार की गति आपकी किसी चीज को
चाहने की तीव्रता पर निर्भर करती है।”

तुझे ना हासिल कर के भी ये सुकून तो रहा,
कम से कम तेरे इंतज़ार में समय तो नहीं गवायाँ।

intezaar shayari in hindi

“अब और कितना इंतज़ार कराओगी ऐ ज़िंदगी,
मिलो और बातें चार कर कुछ मुद्दे ही सुलझा लो।”

इंतज़ार ख़त्म होगा जब सफर की शुरुआत होगी।

हर इंतज़ार में एक उम्मीद छुपी होती है।

ज़िंदगी में कभी इंतज़ार ख़त्म नहीं होता,
किसी बेगाने के वजह से कोई बर्बाद नहीं होता,
हम तो अपनों के सताए हुए है, दुनियां में अपनों से दूर जाने कोई ज़रिया नहीं होता।

इंतज़ार बहुत जरुरी है,
मंज़िल हासिल करने के लिए।

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी

हर कोई पूछता है हमसे करते क्या हो,
और हम कहते है, इंतज़ार सही वक्त का।

“बेचैनी प्यार से ज्यादा किसी के इंतज़ार में होती है।”

“कोई आपको अपने से भी ज़्यादा
तब अपना लगने लगता है,
जब उस से मिल कर भी आपका इंतज़ार खत्म नहीं होता।”

किसी के इंतज़ार में वक्त ज़ाया ना करें,
या तो इश्क़ करें, या तो अपने काम से इश्क़ करें।

हमलोग तो बस इंतज़ार ही कर सकते,
उनका दीदार करना तो हमारे नसीब में ही नहीं है।

emotional intezaar shayari

तुम मिलो ना मिलो मैं इंतज़ार करता रहूँगा,
तुम्हारे आने की।

अब ये दिन मुझे पहाड़ जैसे लगते है,
उसके बिना ये कटते ही नहीं है।

जानता हूँ कि वो आएंगे नहीं,
लेकिन उनका इंतज़ार करना मुझे मसरूफ रखता है।

मुझे इंतज़ार था तेरे हर इकरार का पर वो
इंतज़ार इंतज़ार रह गया।

उसने कहा सही घड़ी आने पे सब कुछ बयाँ कर दूंगा,
उस सही घड़ी का इंतज़ार अब तक है।

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी

उसे कैसे बताएं कि अभी भी इंतज़ार है उसका।

उन्हें मुझसे नफ़रत थी और मुझे घमंड,
अजीब हैं नफ़रत करने वाले भी
हर महफ़िल मे हमारी चर्चा करते हैं।

उसके पास जितना कम दिमाग था
उतना ही ज्यादा घमंड,
समझदार होती तो विनम्र होती।

तूफ़ान आया था कश्तियाँ डूब रही थी,
मैने कहा घमंड छोड़ दे वरना तेरा भी यही हश्र होगा।

तू आस न छोड़ना,
तेरे मेरे कुन्ड्ली में हमारा मिलन लिखा है।

बहुत देखे रास्ते सब में इंतज़ार करना पड़ा,
पर तेरे इंतज़ार का मजा ही कुछ और था।

intezaar shayari in hindi

अदब से कर रहा हूँ दिलबर तेरा इंतजार,
लौट आयेगा एक दिन अगर सच्चा होगा प्यार।

फुरसत पड़े तो याद कर लेना हमें,
कि जी रहे हैं हम तेरे इंतज़ार में।

कुछ इस क़दर उसने रिश्ता निभाया,
कभी न लौट आने की क़सम देकर,
बस उम्रभर इंतज़ार किया।

एक तरफ है खामोशी, एक तरफ इंतज़ार है,
फिर भी ये मोहब्बत अपने आप में ही कमाल है।

रात देर तक तेरी दहलीज पर बैठी रहीं आँखें,
खुद न आना था तो कोई ख्वाब ही भेज दिया होता।

Intjar sad shayari in hindi, प्यार में इंतज़ार शायरी

कभी उनकी याद करना,
कभी उनकी बात करना,
साल कुछ इस तरह गुज़र गया,
किसी के इंतज़ार में।

अपनी बाहें बिछा कर इंतजार में थे हम,
और वो मुलायम बिस्तर पर जाकर सो गए।

आने में सदा देर लगाते ही रहे तुम
जाते रहे हम जान से, आते ही रहे तुम

उसे गुरूर था कि मैं उसके साथ हूँ,
पर एक दिन उससे दूर क्या हो गया,
उसका गुरूर हि टूट गया।

उससे मैने पूछा के मेरे साथ चलोगे,
उसने कहा हम अकेले रहना पसंद करते हैं,
मैने भी कहा, ‘तो हम भी अब से तुमसे दूर रहना पसंद करते हैं।’

इंतज़ार शायरी दर्द भरी

प्यार हो तुम मेरे पता है जरूर वापस आओगे,
तब तक करूँगा इंतज़ार तुम्हारा ये वादा रहा हमारा।

इंतज़ार भी उसका जिसे आना नहीं है,
रात गुजारने का और कोई बहाना भी नही है।

लौटने का ख्याल भी आए
तो बस चले आना तुम,
कमबख्त इंतजार आज भी
बड़ी बेसब्री से करते है तुम्हारा हम।

इंतज़ार कब तलक करेगी ए रूह,
चाँद में उलझे लोग तारों की बात नहीं किया करते।

तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में एक बार
दर्द हो तो समझ लेना मोहब्बत अभी बाकी है।

अब ख़ाक उड़ रही है यहाँ इंतज़ार की
ऐ दिल ये बाम-ओ-दर किसी जान-ए-जहाँ के थे

नम आँखों में तेरा इंतज़ार लिए बैठा हूँ,
कुछ खास नहीं बस इश़्क का इज़हार लिए बैठा हूँ।

एक मुद्दत से चिरागों की तरह जलते हैं,
इन तरसती हुई आँखों को बुझा दे कोई।

तुम्हारी एक झलक देखने के लिए,
हम चाँद से बातें सारी रात करते रहे।
आप हमसे मिलने नहीं आई,
हम आपका इंतज़ार सारी रात करते रहे।

वक़्त गुज़ार लिया मैंने,
इंतज़ार को हरा दिया मैंने,
तू सामने है यह सोचकर
चांद को गले लगा लिया मैंने।

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ
उस ने सदियों की इंतज़ार दिया है

2 line intezaar shayari

यूँ बेवजह बेवक़्त इस दिल को
किसी का इंतजार क्यों है,
जो है ही नहीं हाथ की लकीरों में
दिल को उसी से ही प्यार क्यों है।

डर लगता है ये सोचकर कि
कहीं वे मिले तो क्या होगा
जिनकी इंतज़ार में मैं जिंदा हूं।

आहिस्ता आहिस्ता धड़कन बढ़ने लगती है,
जब इंतज़ार की घड़ी कम होने लगती है।

टूट गया दिल पर अरमान वही है,
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है,
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे,
फिर भी आँखों में इंतज़ार वही है।

एक रात वो गया था जहाँ बात रोक के
अब तक रुका हुआ हूँ वहीं रात रोक के

तुम्हारे जवाब का इंतजार रहेगा मुझको,
जरूरी नहीं कि तुम भी करो एक तरफा ही सही
पर तुमसे प्यार रहेगा मुझको।

दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के,
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

अगर आप अपने प्रेम जीवन में खुश रहना चाहते हैं,
तो आपको इंतज़ार करना सीखना होगा।

दिल के दरवाजे पे दीये जलाए बैठे हैं,
अब तो लौट आओ तुम्हारे इंतजार में
खुद को भुलाए बैठे हैं।

सही समय के इंतज़ार में रहती है,
फिर भी जाने क्यों ये किसी और को ढूंढती रहती है।

“इंतज़ार उनके आने का खत्म ना हुआ,
हम हर एक आहत में उनको ही ढूंढते है।”

आखिर मैं एक मामूली इंसान ही हूँ
जिसे प्यार का खेल अभी समझ ही नहीं आया
इसलिए मैं अभी भी उसका Intezar कर रहा हूं।

बस यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले,
लौट के कब आते हैं छोड़ कर जाने वाले।

intezaar shayari in hindi 2 line

हालात कह रहे हैं मुलाकात नहीं मुमकिन,
उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर।

हमें दो से एक होने से पहले कुछ पल इंतजार करना होगा,
बस यही तरीका है हम दोनों के एक होने का।

इंतज़ार हिंदी शायरी स्टेटस
खुद हैरान हूँ मैं अपने
सब्र का पैमाना देख कर,
तूने याद भी ना किया,
और मैंने इंतज़ार नहीं छोड़ा।

इंतज़ार के इन लम्हों में,
ज़माना ना जीत जाए,
इंतज़ार करते-करते कहीं,
ज़िन्दगी ना बीत जाए।

सालों तक इंतजार किया है मैंने तेरा,
इतनी आसानी से तुझे कैसे खो दू,
चला था कभी जिन राहों पर,
आज उन राहों पर कांटे मैं कैसे बो दूँ?

अभी अपने आप से नाखुश हूँ,
तभी तो अपने आने वाले
अपने आप के इंतज़ार में हूँ।

प्यार में पढ़े इंसान की सही परीक्षा तब होती है
जब वो अपनी बात कहने के लिए सही समय का इंतज़ार करता है।

हर कोई इतना प्यार कर नहीं सकता,
हर कोई हर किसी का इंतज़ार कर नहीं सकता।

एक आरज़ू है पूरी अगर परवरदिगार करे,
मैं देर से जाऊं और वो मेरा इंतज़ार करे।

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हमको भी इंतज़ार दिखे।

इंतज़ार शायरी 2 line

सच्चा प्यार इंतजार करता है,
इसमें सब कुछ शामिल होता है
ख़ुशी भी और दुख भी।

तू भी कभी अपने होठों पर मेरा नाम रख के देख,
तू भी तो कभी मेरा इंतज़ार करके तो देख।

पलकों पर रूका है समन्दर खुमार का,
कितना अजब नशा है तेरे इंतजार का।

मुझे हर पल तेरा इंतज़ार रहता है,
हर लम्हा मुझे तेरा एहसास रहता है,
तुझ बिन धडकनें रुक सी जाती हैं,
कि तू दिल में धड़कन बनके रहता है।

मैं इंतजार करने की कला में विश्वास करता हूं,
क्यूंकि सब्र का फल मीठा होता है।

वो तारों की तरह रात भर चमकते रहे,
हम चाँद की तरह सफ़र करते रहे,
वो तो बीते वक़्त थे, उन्हें आना न था,
हम यूँ ही सारी रात करवट बदलते रहे।

कब आ रहे हो मुलाकात के लिये,
हमने चाँद रोका है एक रात के लिये।

भरकर मेरी आँखों को अपने इन्तजार से
वो हर रोज मुझे भूलने की कोशिश तो करते होंगे

अपने दिल के ज़ख्म
हम भर तो ले
मगर इंतज़ार तुम्हारा
हमे ज़ख्म भरने नहीं देता।

ऐसे शख्स का ना जाने
क्यू इंतज़ार है हमे
जिसका पता नहीं कि
वो कभी आएंगा भी या नहीं

इंतज़ार शायरी hindi

किसी रोज़ होगी रोशन मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नहीं तेरे लौट आने का है।

रात क्या होती है हमसे पूछिए,
आप तो सोये सवेरा हो गया।

इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा,
यादें काटती हैं ले-ले के नाम तेरा
मुद्दत से बैठे हैं तेरे इंतज़ार में कि,
आज आयेगा कोई पैगाम तेरा

तेरे इंतजार में कब से उदास बैठे हैं,
तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे हैं,
तू एक नज़र हम को देख ले बस,
इस आस में कब से बेकरार बैठे हैं

उल्फ़त के मारों से ना पूछो आलम इंतज़ार का,
पतझड़ सी है ज़िन्दगी और ख्याल है बहार का।

इक मैं कि इंतज़ार में घड़ियाँ गिना करूँ,
इक तुम कि मुझसे आँख चुराकर चले गये।

आँखों को इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया,
दिन की वो महफिलें गईं रातों के रतजगे गए,
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।

दिल टूट गया पर अरमान वही हैं
रहते हो दूर फिर भी प्यार वही है
हम जानते हैं तुम मिल ना पाओगे हमे
फिर भी इन आँखों को इंतज़ार अब भी है।

प्यार के लिए मुझे इंतजार करना चाहिए था,
ये विचार मुझे 10 साल बाद भी परेशान कर रहे हैं।

रात देर तक तेरी दहलीज़ पर बैठी रहीं आँखें,
खुद न आना था तो कोई ख्वाब ही भेज दिया होता।

intezaar shayari in hindi 2 line

इस से पहले कि रात हो जाए, क्यूँ ना एक मुलाक़ात हो जाए,
अपने मोबाइल से एक प्यार सा मेसेज ही कर दो
जिससे बिना कॉल किये ही बात हो जाए !

जिन्दगी इस तरह तुमपे निहाल करते है,
Waiting भले ही जाता है पर कॉल करते है।

हमलोग तो बस इंतज़ार ही कर सकते हैं,
उनका दीदार करना तो हमारे नसीब में ही नहीं हैं।

काश ! वो मेरे कॉल के इंतज़ार में होती,
थोड़ा लेट होने पर ‘Call Me‘ का मेसेज भेजती !

मुझे इंतज़ार था तेरे हर इकरार का
पर वो इंतज़ार इंतज़ार रह गया।

उसके पास जितना कम दिमाग था
उतना ही ज्यादा घमंड,
समझदार होती तो विनम्र होती।

बहुत देखे रास्ते सब में इंतज़ार करना पड़ा,
पर तेरे इंतज़ार का मजा ही कुछ और था।

हर कोई पूछता है हमसे करते क्या हो,
और हम कहते है, इंतज़ार सही वक्त का।

तड़प के देखो किसी की चाहत में,
तो पता चलेगा कि इंतजार क्या होता है,
यूं ही मिल जाए, कोई बिना चाहे,
तो कैसे पता चलेगा, कि प्यार क्या होता है।

तुम देखना यह इंतज़ार रंग लायेगा ज़रूर,
एक रोज़ आँगन में मौसम-ए-बहार आएगी ज़रूर।

मुझे प्यार का Intezar नहीं करना चाहिए था,
इसने मुझे केवल दुखी किया,
उस प्यार को पाने की लालसा जो मुझे कभी नहीं मिली।

इंतज़ार शायरी

हर पल रहता है इंतज़ार की खत आये अब उनका
पर दिल को पता है सब की बेवजह है इंतज़ार अब उनका।

कल की रात उनका एक भी संदेशा ना आया
लगा वह सपने सजा के सो गए

किसी लड़की को इतना भी कॉल मत करना,
कि उसके कॉल का इंतज़ार तुम्हे बेक़रार कर दे।

तेरे इंतज़ार में लफ्ज़ ख़तम हो गए लिखने के लिए,
मेरे इश्क़ पे खामोशी सी छायी है तेरे इंतज़ार में

हूँ ये किस नशे में या किस अजब ख़ुमार में हूँ
तू आ के भी जा चुका भला मैं किसके इंतज़ार में हूँ

इंतजार जो था मुझे मिलने का, तुझसे
इन्तजार ही रह गया, उम्र भर का

एहसास तो उसको भी बहुत हैं
मेरे इंतज़ार ऎ मोहब्बत का
शायद वो तड़पता इसलिए हैं
कि मैं और टूट के चाहूं उसे

 

Leave a Comment