Pyar me dhoka shayari wallpaper | धोखा शायरी दो लाइन

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन are included in this post. Doston jab koi kisi se beintaah pyar karta hai. Aur usse wafa ke badle sirf dhoka mile, toh insaan ander se Tut jaata hai. Bahut baar toh insaan depression mein chala jaata hai. Kuch dhoka shayari is post mein included hai Jo mujhe umeed hdi aapko pasand aaenge.

You can also search with these words प्यार में धोखा स्टेटस, dhoka shayari, dhoka shayari in hindi, dhoka bewafa shayari, धोखा शायरी , dhokha wali shayari, प्यार धोखा bewafa शायरी, pyar mohabbat dhoka hai shayari,pyar dhoka shayari in hindi,बेवफा शायरी इन हिंदी

Please also share with your friends and relatives on social media platforms.

धोखा शायरी दो लाइन

मुझे धोखा देने के लिए मैं तुम्हारा शुक्र-गुजार हूं,
तुमसे मिली हर एक चीज़ कीमती है मेरे लिए,
इसलिए, इसे भी तोहफा मान संभाल कर रखे हुए हूं।

हद से ज्यादा किया था प्यार और
बेहद चाह थी उन्हें पाने की,
छोड़ गए वो इस दर्द के साथ हमें अकेला,
इतनी भी क्या जल्दी थी जाने की।

प्यार में धोखा मिला तो जिंदगी में उदासी छा गई,
बड़े दिल से चाहा था मैने उसे, न जाने कहां गई।

वफा के नाम लेकर बेवफाई करने वाला कौन है,
आंखों के सामने ही लुट गई दुनिया,
फिर भी बता न पाए कि इस धोखेबाजी की गुनहगार कौन है।

हमारी मोहब्बत का अंदाजा तुम क्या लगाओगे ऐ बेवफा,
हम तो धोखा खाने के बाद आज भी उन पर मरते हैं।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

मेरी जिंदगी की हर एक सांस पर हक था तुम्हारा,
मुझे दगा देकर तुमने वो हक भी खो दिया।

दिल से चाहा था उसे बे-अंत प्यार के साथ,
किसी और के लिए छोड़ गई वो मुझे बेइंतहा दर्द के साथ।

बहुत शौक था मुझे प्यार करने का,
पर जब से तुमसे दिल लगा,
तो पता चला कि किसी को चाहना बुरी बात है।

तारीफ दुनिया का एक ऐसा धोखा है,
जिसे सुनकर हर कोई खुश होता है।

किसी से दिल लगाने से पहले उस दिल को परखना सीख लें,
क्योंकि हर खूबसूरत चेहरे की फितरत में वफा नहीं होती।

Love shayari in Hindi 2 lines

Pyar me dhoka shayari wallpaper

उसकी हर चाल समझता था मैं फिर भी धोखा खा गया,
इस कदर हुनर था उन्हें लूटने का
कि मेरी आंखों का एक कतरा आंसू भी न छोड़ा उसने।

अपनी हर दुआ में ये दुआ मांगा करते थे कि तेरी हर दुआ पूरी हो,
मुझे क्या पता था कि वो दुआ भी मुझसे दूर जाने की मांगा करते थे।

आज जिंदगी ने रोते हुए ये पूछा मुझसे कि ऐसा भी क्या है उसके प्यार में,
जिसके लिए तूने मुझे ही बर्बाद कर दिया।

तेरी झूठी मोहब्बत के फसानों में इस कदर खो गया हूं मैं,
कि तुझे पाने की जिद में अपने आप को ही भूल गया हूं मैं।

मेरी आंखों को दिखाए झूठे सपनों को वापस ले लो,
शायद किसी और का दिल तोड़ने के लिए ये तुम्हारे काम आएंगे।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

पत्थर दिल से धड़कन की उम्मीद लगा बैठे,
बेवफा से दिल लगाकर वफा की उम्मीद लगा बैठे।

खुशी के आंसुओं से नाता था उनका,
हमसे मिले तो गम में मुस्कुराना भी सीख गए।

समय के साथ रिश्ते बदल जाते हैं,
हालात बदल जाते हैं,
कभी गलती से भी तेरा जिक्र कहीं आए,
तो हम वो बात ही बदल लेते हैं।

उसने धोखा दिया, तो दिल दुखा पर आंखों से एक आंसू न बहा,
शायद आंखों को पहले ही उसकी मक्कारी का अंदाजा हो गया था।

जिसे टूट कर चाहा, वो एक झटके में हमें छोड़कर चले गए,
इस धोखे से उबरने में हमें वर्षों लग गए।

प्यार में धोखा स्टेटस

खेलते रहे वो मेरी मोहब्बत के साथ,
जब दिल भर गया तो छोड़ दिया,
जब मैंने जवाब मांगा तो हंसकर कह दिया,
देने के लिए कुछ नहीं था, तो मैंने धोखा ही दे दिया।

साथ मेरे होकर भी वो किसी और के करीब था,
जिसे अपना मान बैठे थे हम वो किसी
और की तकदीर में था।

किसी से मोहब्बत मत करना ऐ दोस्त,
ये दिल तोड़कर ही दम लेती है,
छोड़ देते हैं बीच राह में साथ,
टूटे दिल के साथ तुम्हें तन्हा छोड़ देती हैं।

ये वहम था मेरा कि तू हमसफर है मेरा,
मैं चलता रहा हमेशा तेरे साथ में,
और तू चलती रही किसी और की तलाश में।

नासमझ थे हम जो हर किसी पर भरोसा करते गए,
लोगों ने तो पहले ही धोखा खाने की चेतावनी दी थी।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

झूठ कहते हैं लोग कि इस दुनिया में एक इंसान ही दूसरे इंसान को धोखा देता है बल्कि
धोखा तो उस इंसान की उम्मीदें देती हैं, जो वो अक्सर दूसरों से लगाए बैठता है।

कितनी आसानी से दूसरों को धोखा दे देते हैं लोग,
खुद पर आए तो मुंह फेर लेते हैं लोग।

प्यार की कीमत वही जानता है जिसने धोखा खाया हो,
क्योंकि यहां धोखेबाज राजा और ईमानदार भिखारी बन जाता है।

खुशनसीब है वो जिसे प्यार में धोखा नहीं मिला,
हम तो वो बदनसीब हैं, जिसे रोने का मौका तक नहीं मिला।

मोहब्बत का पागलपन तो देखो,
वो हमें हर बात पर धोखा देते गए,
और हम मुस्कुरा कर मौका देते रहे।

dhoka shayari

हमने जिंदगी में ये बात आजमाई है,
अक्सर धोखा देने वाले करीबी ही होते हैं।

याद है मुझे हमारी प्यार की कहानी,
तेरी बेवफाई का दर्द और मेरी आंखों का पानी।

उसकी फितरत थी सबके प्यार से खेलने की,
और एक हम जो हर दिन खुदा का शुक्रिया करते रहे,
उनका मेरी जिंदगी में आने के लिए।

हर किसी को अपनी मोहब्बत पर तब तक गुरूर होता है,
जब तक प्यार में धोखा और बेवफाई की ठोकर ना मिले।

कभी कभी जिंदगी मुझे एहसास दिलाती है,
तेरी मुहब्बत में धोखा न मिलता तो आज जिंदा होता मैं।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

हम मोहब्बत करते रहे और वो मजाक,
एहसास तब हुआ जब श्मशान में बन गया राख।

उसने धोखा दिया तो खुद से नाराज था मैं,
सोचा निकाल फेंक दूं इस दिल से उसे,
लेकिन, कमबख्त ये दिल भी उसके ही पास था।

अपनी बेवफाई को मजबूरियों के दामन में छिपा लिया उन्होंने,
वो धोखा देकर सफाई देते रहे और हम विश्वास करते गए।

जिनके प्यार में हम दिवाना बन फिरते रहे,
उन्होंने ही हमें बेगाना कर दिया,
उस धोखेबाज को तलाश है अब नए प्यार की,
क्योंकि, हमें तो अब उनकी निगाहों ने पुराना कर दिया।

जब अपनों ने धोखा दिया तो गैरों ने गले लगाया,
ऐ खुदा, दुनिया में इंसानियत जिंदा रखने के लिए तेरा शुक्रिया।

dhoka shayari in hindi

धीरे से इज़हार फिर प्यार और अब बेवफाई,
बड़ी चालाकी से उस धोखेबाज ने मुझे बर्बाद कर दिया।
वो गलतियां करता गया, हम माफी मांगते गए,
बस यहीं हम उसको और अपने आप को खोते गए।

जब साथ ही नहीं देना होता तो,
क्यों लोग प्यार में नाता जोड़ लेते हैं,
साथ जीने और मरने की कसमें खाकर,
बीच राह में धोखा देकर छोड़ देते हैं।

आज मेरे दिमाग ने दिल से सवाल किया कि,
जिंदगी भर क्या किया तुमने,
मेरे दिल ने भी हंस कर जवाब दिया,
जिंदगी भर प्यार किया सभी से और वापसी में धोखा खाया हमने।

ये दिल आज भी उस धोखेबाज से वफा की उम्मीद लगाए बैठा है,
बेवकूफ है यह इसे इज्जत कहां रास आती है?

न तेरे झूठे वादे की जरूरत है,
न तेरे दिखावटी साथ की,
बाकी की जिंदगी गुजारने के लिए
बस तेरी यादें ही काफी हैं।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

प्यार में धोखा तुमने दिया और बेवफा हम हो गए,
तुम्हारा तो कुछ न बिगड़ा, लेकिन लुट हम गए।

धोखेबाजों के साथ रहने से बेहतर है अकेला जीना सीख लें,
यहां सच्चे प्यार की कद्र कोई नहीं करता, तो बेवजह के रिश्ते निभाना छोड़ दें।

जो हर बात पर गिनाते हैं दूसरों का दोष,
एक बार खुद के अंदर झांक लें,
तो उड़ जाएंगे उनके होश।

कितना टूटा हूं किस अल्फाज में बयां करूं,
सीने में दर्द आज भी उठता है तुझे याद कर कैसे बताऊं,
तेरी कमी आज भी खलती है तुझे कैसे समझाऊं।

मेरे सच्चे प्यार को झुठला कर तुम भी कहां चैन पाओगे,
नींद तो छोड़ो खुली आंखों में भी मेरे ही सपने देखा करोगे।

dhoka bewafa shayari

अनजाने में दिल लगा बैठा मैं,
प्यार में धोखा खा बैठा था मैं,
उनसे कोई शिकायत नहीं है हमें,
बे-दिल बेवफा से दिल लगा बैठा था मैं।

कितना प्यार था उनसे यह जता न सके,
साए की तरह साथ रहे उसके
फिर भी कभी उसे दिखाई तक न दिए।

जिन पर बंद आंखों से विश्वास होता है,
अक्सर वही धोखा देकर आपकी आंखे खोल देते हैं।

दिल टूटने पर दुख होता है,
तन्हाई में अक्सर रोता है,
बहुत दर्द उठता है सीने में,
जब महबूब किसी और की बाहों में होता है।

कांच के टुकड़े को हीरा समझ बैठे हम,
बहुत मासूम था चेहरा
उसका जिसे देखकर ही धोखा खा बैठे हम।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

बड़ा मासूम सा लगता था वो शख्स जब उनसे मोहब्बत हुई थी,
दिल में घर करते ही न जाने कैसे वो धोखेबाज बन गया।

उनसे इनकार करने का इरादा था
लेकिन इकरार कर बैठे,
इस दुनिया की बेरुखी से अंजान थे,
इसलिए प्यार कर बैठे।

साथ जीने मरने का वादा करते थे जो वो आज हमसे नजरें तक नहीं मिलाते,
पहले ही बता दिया था उन्हें कि बड़ा नाजुक है दिल मेरा,
जिसे तोड़कर वो अब समेटने तक नहीं आते।

माना धोखा तुम्हारा यह प्यार मेरे लिए,
हम इस धोखे में भी खुश थे,
तुम्हारे झूठ में बसी थी दुनिया मेरी,
अब सच्चाई सामने है फिर भी उससे नजरे नहीं मिला पाते।

जब कोई तुम्हें धोखा दे, तो समझ लेना यह उनके चरित्र का दोष है, आपका नहीं।

धोखा शायरी

प्यार में धोखा देने वाले अक्सर भूल जाते हैं
कि यह जीवन का ‘कर्मा’ है, जो धोखा दिया है,
तो खाना भी पड़ेगा।

धोखा देना जिसकी फितरत में हो,
उससे वफा की उम्मीद लगाना बेवकूफी है।

किस्मत अगर छीन ले खुशियां सारी,
तो दिखावटी ही सही मगर मुस्कुरा देना।

अक्सर औरों को धोखा देने वाले लोग
खुद को मिला धोखा सह नहीं पाते।

जिस इंसान की फितरत में ही धोखा देना लिखा हो,
उस पर विश्वास करना सबसे बड़ी मूर्खता है।

Pyar me dhoka shayari wallpaper, धोखा शायरी दो लाइन

जिनका साथ पाकर हम भूल जाते थे वक्त को,
वो बेवफा मुझे ही भूल गया वक्त के साथ।

जला डाली उस धोखेबाज की सभी तस्वीरें मैंने,
फिर भी दिल में उसकी याद आज भी जिंदा है।

मुझे अपनों ने ही दिया इस कदर धोखा
कि अब अपने में ही रहते हैं और अपना ही गम सहते हैं।

काश इश्क करने से पहले धोखे और दर्द का पता होता,
तो आज तुझ पर बेवफाई का इल्जाम न लगता।

अच्छा किया तुमने प्यार कर ठुकरा दिया हमें,
नहीं तो यह प्यार का काला सच हमें पता ही नहीं चलता।

प्यार धोखा bewafa शायरी

उनके पास कोई वजह नहीं थी मुझे छोड़ कर जाने की,
तो बेवफाई का दाग लगा कर मुझे ही बदनाम कर गए।

आज फिर निकला हूं प्यार की तलाश में दोस्तों,
तुम भी दिल से दुआ करो यारों
इस बार भी राह में कोई बेवफा न मिले।

जिनके दिल भर जाते हैं,
वो दूर जाने के बहाने ढूंढ ही लेते हैं।

हम तो अपनी वफाओं से रिश्ते को बचाने की
हर संभव कोशिश करते रहे और
तुम्हारे धोखे ने इसकी नींव को ही गिरा दिया।

धोखा देने वाले की याद में आंसू बहाना फिजूल है,
क्योंकि वो आपके इन कीमती मोतियों के काबिल नहीं।

वो हमें धोखा देकर बदल गए ये कहकर
कि बदलाव को कुदरत का नियम है।

अब अक्सर इश्क में धोखा खाने की शिकायत करने लगे हैं लोग,
क्योंकि अब दिल से ज्यादा जिस्म की चाह रखने लगे हैं लोग।

दिल हज़ार बार चीखे उसे चिल्लाने दीजिए,
जो आपका नही हो सकता उसे जाने दीजिए।

भूलने की तुझे हमनें न जाने क्या क्या जुगाङ किये,
जिस वक़्त थी तो मेरी ज़िंदगी मे,
उस वक़्त के पन्ने भी हमने फाड़ दिये।

जिंदगी में जब कदम-कदम पर मिलने लगी ठोकरें,
तो पता चला कि बादाम खाने से नहीं
बल्कि धोखा खाने से आती है अक्ल।

pyar mohabbat dhoka hai shayari

किसी को बेइंतहा चाहना भी बुरी बात है,
जिसे इंसान तब सीखता है
जब किसी से प्यार में धोखा खाता है।

मुझ पर बेवफाई का दाग लगाने वाले जान लें
कि बदलते वक्त के साथ तुम्हारी
राय भी एक दिन जरूर बदलेगी।

रिश्ते को बचाने के लिए हर बार तेरे आगे झुकता रहा
मैं और तुम उसे ही मेरी औकात समझने की भूल कर बैठे।

तेरी यादों के नशे में हूँ अब सब भूल रहा हूँ
बस तुझे ही लिखता रहता हूँ और मशहूर हो रहा हूँ।

हम इश्क़ निभाते रहे, वो पीठ पीछे मजाक उड़ाते रहे,
जब तक ज़रूरत थी हमारी उन्हें,
तब तक साथ होने का ठोंगा दिखातें रहे।

फिर से उसी शक्श से प्यार की उम्मीद करता है,
ऐ दिल तुझें इज्ज़त रास नही आती क्या?

बस जीने की कुछ वज़ह होनी चाहिए,
वादे ना सही, साथ ना सही, यादे तो होनी चाहिए।

कमबख्त दिल को अग़र इश्क़ में लगाओगे,
लिख के ले लो धोखा जरूर पाओगे ।

हमे लगा हमे देख कर मुस्कुराना सीखा है उन्होंने,
पर वो तो पैसों से मुस्कुराया करते थे।

मोहब्ब्त भी करके देखी है, ये सब धोखा है।
वक़्त की बात है, वक़्त पर कोई किसी का नही होता है।

pyar dhoka shayari in hindi

क़िस्मत की भी मेरे साथ अजीब ठिठोली,
जिसे चाहा दिल से, वो भी वक्त के साथ किसी और कि हो ली।

समय ने खुशियों को कुछ यु रोका
मुझे मिला अपनों का धोखा
अब बस अपने में ही रहते है
अपने गम को अपने ही सहते है।

दिल हज़ार बार चीखे उसे चिल्लाने दीजिए,
जो आपका नही हो सकता उसे जाने दीजिए।

अनजाने में दिल लगा बैठे,
इस प्यार में धोखा खा बैठे, उनसे क्या गिला करे,
भूल तो हमारी थी….
जो बिना दिल वालों से दिल लगा बैठे।

काश मिलता कोई ऐसा जो मुझपर मरता हो,
कोई ऐसा शक्श दे ख़ुदा जो मुझे खोने से डरता हो।

आंखों से आँशु भी नही निकल पाते है दोस्त,
जब लोग धोखा अपनों से खाते है।

हमेशा से नो न रहा होगा इतना शख्त ए दिल,
जरूर किसी ने तेरी मासूमियत के साथ खेला होगा।

तजुर्बे ने फिर एक ही बात बताई,
नया दर्द ही है पुराने दर्द की दवाई।

प्यार में मैंने वो सब कुछ किया पर तूने धोखा दिया
तू भी प्यार में रोयेगी जब किसी अपने को खोयेगी।

हमे खोकर तुम इस कदर तड़पा करोगे,
नींद में क्या आंखे खोलकर मेरे सपने देखा करोगे।

बेवफा शायरी इन हिंदी

एक बात याद रखना ढूंढने से वही मिलेंगे जो खो गए है,
वो नही जो बदल गए है।

बस जीने की कुछ वज़ह होनी चाहिए,
वादे ना सही, साथ ना सही,
यादे तो होनी चाहिए।

क़िस्मत की भी मेरे साथ अजीब ठिठोली,
जिसे चाहा दिल से,
वो भी वक्त के साथ किसी और कि हो ली।

मिलेगा कोई ऐसा जो मुझपर मरता हो,
कोई ऐसा शक्श दे ख़ुदा जो मुझे खोने से डरता हो।

हमेशा से नो न रहा होगा इतना शख्त ए दिल,
जरूर किसी ने तेरी मासूमियत के साथ खेला होगा।

दिल तोड़ने वाले से दिल जोड़ने की उम्मीद न रखना
ए दोस्त इसे लोगो से वफ़ा की उम्मीद न रखना।

आज रात को फिर तेरी याद आई,
तब टूटे दिल ने आवाज लगाई,
बहोत दर्द सहा है उसकी यादों से, अब तो रहने दे भाई।

प्यार मोहब्बत में कभी दिल ना लगाना
उसके झूठे इश्क़ में ना फस जाना
ये कम्बख्त इश्क़ तुझे डूबा देगा
आखिर तुझे ये रुला ही देगा।

न जाने हमसे क्या खता हुयी
सारी खुशियाँ हमसे जुदा हुयी
अनजाने में बेवफा से दिल लगा बैठे
वही सजा धोखा का बैठे।

सिर्फ हम ही हैं उनके दिल में,
ये गलतफहमी हमें ही ले डूबी।

dhokha wali shayari

कितनी मोहब्बत है तुझसे कोई सफाई नही देंगे,
हमेशा साये की तरह रहेंगे तेरे साथ पर तुझें दिखाई नही देंगे।

चेहरों के लिए आईने कुर्बान कर दिया,
इस शौक में बहोत नुकसान कर दिया
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर वो बहुत खुश थे,
जिस शख्स पर मैंने सब कुर्बान कर दिया।

हमे मोहब्बत थी उनसे पर वो हमें आजमाया करते थे,
इश्क़ से नहीं बीएस मतलब से याद आया थे।

मैंने प्यार किया बड़े जोश के साथ!
मैंने प्यार किया बड़े होश के साथ!
पर हम अब प्यार करेंगे बड़ी सोच के साथ!
क्योंकि कल उसे देखा मैंने किसी और के साथ!

इश्क़ है प्यार है इसमें जिंदगी बेकार है
यू सजा मिली हमे मोहब्बत में
अब पलट कर किसी देखना भी बेकार समझते है।

कहते है प्यार एक नशा है ,
हमने भी किया है प्यार,
शायद इसलिए हमे भी पता है!
मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम!
पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है!

न जाने उनकी क्या मजबूरी थी;
जो छोड़ गए हमें;
किस्मत ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं;
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।

अगर मिले प्यार में बेवफाई तो गम ना करना,
आँखे अपनी किसी के लिए नम न करना;
करने दो लाख नफरते उसे तुमसे;
पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

हम तो आये दिल की महफ़िल सजाने,
तेरी कसम तुझे अपना बनाने,
किस बात की सजा दी तुने हमको बेवफा;
हम तो तेरे दर्द को अपना बनाने आए थे।

 

Leave a Comment