अपनों से धोखा शायरी इन हिंदी

धोखा वही देता है जो सबसे अपना होता है और विश्वास सब अपनों से उठ जाता है

कितने भी मज़बूत सही टूट कर बिखर जाओगे बस एक बार किसी अपने से धोखा खा कर देखो

लोग हमेशा गलत इंसान को अपना मान लेते हैं और गलत इंसान से धोखा मिलने पर अपनों को बदनाम करते हैं

जड़े हमेशा अपने ही काटते हैं चाहे कुल्हाड़ी के पीछे लगे डंडे को ही देख लो

धोखा कोई अपना देता है और नफ़रत पूरे जहां से हो जाती है

बुरा वक्त ना आता तो अपने और गैर में फर्क पता ना चलता

Read More