उदास जिंदगी शायरी 2 line

काश कभी मेरी कमी ने, तुझे भी उदास किया होता।

दिन हुआ है तो रात भी होगी, हो मत उदास कभी बात भी होगी, इतने प्यार से दोस्ती की है, जिन्दगी रही तो मुलाकात भी होगी।

बुला रहा है कौन, मुझको उस तरफ, मेरे लिए भी क्या कोई उदास बेक़रार है।

मंज़िलों के ग़म में, रोने से मंज़िलें नहीं मिलती, हौंसले भी टूट जाते हैं अक्सर उदास रहने से।

बहुत उदास बैठे हो, कहो तो दिल दूं खेलने के लिए?

मैं उदास बस्ती का अकेला वारिस, उदास शख्सियत पहचान मेरी।

Read More