गहरे प्यार की शायरी

तुम कहो या ना कहो मगर फिर भी तुम्हारा हर सफर में तुम्हारा साथ हूं में!

सिर्फ एक बात ही सीखी है हुस्न आँख वालो से हसीन जिस की जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है

मेरे दिल पर तेरे इश्क़ का पहरा है तभी तो ये प्यार, समुंदर से भी गहरा है!

सुनो बस इतना है तुमसे कहना, हमेशा मेरे ही होकर रहना.

समेट कर ले जाओ अपने झूटे वादों के अदुरे किस्से अगली मोहब्बत में तुम्हें ये काम आयेंगे

अगर यकीन ना हो तो बिछड़ कर देख लो तुम मिलोगे सबसे मगर हमारी ही तलाश में

Read More