दर्द उदास जिंदगी शायरी

मेने आजाद कर दिया हर वो रिश्ता हर वो इंसान जो सिर्फ अपने मतलब के लिए मेरे साथ था ।।

हम हस्ते जरूर है जनाब लेकिन दुसरो को हंसाने के लिए वरना दिल पर इतना जख्म खाए है कि अब रोया भी नही जाता ।।

एक मशवरा चाहिए था जनाब दिल तोड़ा है एक बेवफा ने अब जान दु या जाने दु ।।

अपने दिल का हाल किसी को बताया ना करो यारो यहां मरहम लगाने वाले कम जख्मो पर नमक छिड़कने वाले ज्यादा है ।

तुम्हारी तस्वीर देखकर भी मन नही भरता तुम्हे देखने के सिवा कुछ और करने का मन नही करता चले गए हो जिंदगी से ऐसे जैसे सूरज चाँद से राब्ता नही रखता ।।

ना खाना कसमे बिना वजह बात जब निभाने की आएगी तो तुम रूठ जाओगी हम रोते रह जाएंगे तुम मुस्कुरा कर चली जाओगी ।।

Read More