दिल से चाहने वाली शायरी Boy

टूटे हुए काँच की तरह चकनाचूर हो गए, किसी को लग ना जाये इसलिए सबसे दूर हो गए।

मोहब्बत की ये सारी रस्मों को तोड दूं तू दिल मे रख ले तो मैं ये जमाना छोड दूं..

तेरी एक झलक के लिए तरस जाता हूँ, खुश किस्मत है वो लोग जो तुझे रोज देखते है।

एक दर्द के हसरतों का मेला हैं मेरे सीने मे, फिर भी तमन्ना रखता हूँ वफा़ से जीने मे..!!

मेरे कदम से कदम मिला लो ना तुम एक बार मुझे अपना बना लो ना तुम बहुत सहन शक्ति है मेरे अंदर कठोर हूं चाहे तो दर्द दे कर आजमा लो ना तुम।

कहने को तो बहुत कुछ बाकी है। पर तेरे लिए मेरी खामोशी ही काफी है।

Read More