sad and love shayari in hindi

ए नसीब जरा एक बात तो बता, तू सबको आज़माता है या मुझसे ही दुश्मनी है।।

ए दिल तू क्यों रोता है, ये दुनिया है, यहाँ ऐसा ही होता है।।

हो ताल्लुक तो रूह से ही हो, दिल तो अक्सर भर ही जाता है।।

अपनों से ही टूटा हूँ, तो अब सवाल क्या करू !!

” क्यूँ नहीं महसूस होती उसे मेरी तकलीफ, जो कहते थे, बहुत अच्छे से जानते है तुझे “

सिर्फ सहने वाला ही जानता है, की दर्द कितना गहरा है।।

Read More